किन लाहुर आएँ !

कला साहित्य मनाेरंजन

कविता

रबिन्द्र लम्साल,
टोरोन्टो, क्यानडा

 न कृति पाएँ, न धन कमाएँ
 छोडेर देश, किन लाहुर आएँ 

  कुल्चेर डोब, आँफैले खनेको
  कतै हिँड्ने आँफ्नै, बाटो बिराएँ

  माटो मलिलो, थियो साथ उस्तै
  न फूल रोपेँ, न त प्रित  लाएँ

  बिर्सेर भोक, निदरी अँनिदो
  यो मरूस्थलमा, के खान पाएँ

   न भुल्न सकेँ, न त घुल्न सकेँ
   पहिचान आँफ्नै, दोसाँध बनाएँ

   न कृति पाएँ, न धन कमाएँ
   छोडेर देश, किन लाहुर आएँ !